Love Poetry in Hindi

Love Poetry in Hindi

Love Poetry in Hindi : हम अपने प्रिय प्रेमी के लिए प्रदान करते हैं। अगर इस पूरी रचना में कुछ सबसे कीमती है, तो यह सिर्फ प्यार का एहसास नहीं है। हम सभी से प्यार मांगने से पहले सभी को पूरी ईमानदारी के साथ प्यार देना चाहिए। तो चलिए स्टार्ट करते हैं अगर आप दिल की विफलता के शिकार हैं या आपका प्यार बढ़ रहा है या बात दिल टूटने की है तो इसके साथ शब्द भी दिए जाते हैं। प्रेम कहानी को कभी कविता के रूप में तो कभी प्रेम कविता के रूप में सुनाया जाता है

Read Also : Hindi Poetry on Life

तुम  इतनी  जरूरी क्यों Love Poetry in Hindi

 तुम इतनी जरूरी क्यों हो मेरे लिए

क्यों मैं खुद को तुम्हारे बिना

सोच ही नहीं पाता

मैं बहोत लोगो से बात करता हूँ

पर मुझे तब ही क्यों फ़र्क़ पड़ता है

जब तुम्हारा रिप्लाई टाइम से नहीं आता

क्यों मैं वापस तुम्हरे पास ही जाता हु

जब की तुमसे मुझे बेचैनिया ज़्यादा मिलती हैं

अपने मन की बातें मैं आसानी से

कभी ज़ाहिर नहीं करता

पर तुमसे कहने में पता नहीं क्यों

मुझे हिचकिचाहट होती ही नहीं है

मेरे साथ कुछ भी नया होता है

मैं सबसे पहले वह ख़ुशी केवल

तुमसे ही क्यों बाटना चाहता हूँ

मुझे फ़र्क़ नहीं पड़ता मेरे दोस्त कब

किस्से बातें करते हैं

पर तुम्हे किसी के साथ देख कर मैं

क्यों ज़्यादा सोचने लग जाता हूँ

तुम जागती हो रात भर

तोह मेरी नींद पे असर क्यों पड़ता हैं ?

तुम्हारी फोटो पे किसने कमेंट किया ?

मुझे उससे उतना फ़र्क़ क्यों पड़ता है ?

क्यों तुमसे मिलने के बाद भी

मिझे सिर्फ तुम्हारी ही याद आती है

एक तुम्हारी आवाज़ को जब सुन्न लेता हूँ

मेरी तबियत अचानक ठीक कैसे हो जाती है

मैं जब भी कोई गाना सुनता हूँ

तोह तुम्हारा ही चेहरा क्यों सामने आता है

तुम्हरी बातें सोचता राहु अगर

तोह लिखना इतना आसान कैसे हो जाता है

मैं अपने किसी भी काम में मशगूल राहु

तुम्हारा ख्याल उस पल में भी

कैसे मौजूद रहता है

जिसने मुझे दुःख पहोचाया हो

मैं उसकी तरफ पलट कर भी नहीं देखता

पर तुम्हारे यह दिल हर बार

दूसरे मौके क्यों देता रहता है

मैं अपने दोस्तों यारो में भी

तुम्हारा ही ज़िक्र क्यों करता हूँ ?

मेरे हालात चाहे कुछ भी रहे

मैं पहले तुम्हारी ही फिक्र क्यों करता हूँ ?

तुम्हे जो चीज़ अच्छी लगती है

वह मुझे अपने आप ही पसंद आ जाती है

तुम इतनी ज़रूरी कैसे हो गयी मेरे लिए

बस यही बात तोह है जो  समझ नहीं आती है

कहीं इसको हो तोह प्यार नहीं कहते ?

अगर हाँ तो तुम थोड़ा और पास

क्यों नहीं रहते

थोड़ी और बातें क्यों नहीं करते ?

इज़हार करके जाता क्यों नहीं देते

क्यों शायद हम डरते हैं

की जितना नीला है

कहीं वह भी न खो जाए

हम से है ना ?

Related Articles

Hindi Poetry on Life

दोस्तों, अगर आप जीवन पर कविताओं की तलाश कर रहे हैं, तो आप सही वेबसाइट पर आए हैं। आज हम आपके साथ इस पोस्ट में कुछ जीवन के बारे में कुछ बहुत ही लोकप्रिय कविताएँ साझा करने जा रहे हैं। इन कविताओं में कवि ने जीवन के बारे में कुछ बहुत महत्वपूर्ण बातें बताई हैं।

Free Online Romantic Novels Read Now Part 1&3

एक्साम्स के बाद की छुट्टियां शुरू हो चुकी थी। बी.टेक का 3rd Year भी ना कमाल का गुज़रा  अब हम सोच ही रहे थे की ट्रिप पे जाना है  प्लान भी हम 4 दोस्तों ने बहोत पहले से बना रखा था। 

No. 1 Best School Crush Love Story in hindi

मेरा नाम लिए बगैर मुझे कभी पुकारती नहीं थी। ज्यादातर सबको भैया बोलती थी । पर मेरे नाम के आगे कभी ऐसा वर्ड लगाती नहीं थी

Responses