Military Wala Love Story in Hindi with Image

Military Wala Love

Military Wala Love: ( आज हम अपनी नई कहानी start करने वाले है। वैसे तो हम इस story का नाम army wala love रखने वाले थे पर ये नाम पहले से ही story का था। चलो कोई नहीं वैसे भी महान writer Shakespeare जी ने कहा है कि “नाम मे क्या रखा है।” हालांकि ये लिखने के बाद उन्होंने अपना ही नाम बड़े बड़े अक्षरो में लिखा है। चलो बहुत बकवास हो गई story start करते है।)

जैसलमेर राजस्थान

B.S.F. Headquarter

जैसलमेर के गर्म धोरों (रेगिस्तान के बीच B.S.F headquarter में आज बहुत गहमा गहमी थी। तभी एक B.S.F officer भागते हुए वहां आया और बोला “क्या Major kabir आ गए।”

वह खड़े दूसरे soldier बोले “yes sir वो 10 minute से आपका इंतेज़ार कर रहे है।”

ये सुनते ही उस officer के सिर पर पसीने की बूंदे नजर आने लगी उसने किसी तरह अपने आप को संभाला और अपने चेहरे के expressions ठीक करते हुए वो अंदर चला गया।

वही खड़े दूसरे solider आपस मे बात करने लगे।

पहला solider:- ये sir आज इतने घबराए हुए क्यों है आज से पहेले तो वो कभी इतना नहीं घबराए ।

दूसरा solider :- अरे तुम्हे नहीं पता क्या ये Major कबीर है। पिछले तीन साल से ये एक mission पर थे जिसमें इन्होंने एक पूरे के पूरे आतंकी संगठन को अधमरा कर दिया है। बस उस संगठन का एक main member यही कही छुपा है।

पहला solider:- यही कही छुपा है मतलब वो Indian है।

दूसरा solider:- हां वो Indian है तीन साल पहले वो बहुत बड़ा bussiness man भी था। वो सरहद पार इन आतंकवादी संगठन को illegal wapons बेचता था। कुछ वक़्त बाद वो भी उन्हीं में शामिल हो गया

पहला solider:- अच्छा फिर ये हमे ये पता कैसे चला की वो उन्ही का आदमी है। क्योंकि ऐसे मामलों में identify करना बहुत मुश्किल होता है और कई लोग बच भी जाते है।

दूसरा solider:- उस आतंकी संगठन को indian army में से कोई information चाहिए थी तब इन्होंने plan बनाया की वो उस business man की शादी किसी बड़े army officer के बहन या बेटी से करवा देंगे और वो almost अपने plan में कामयाब हो ही गए थे लेकिन वो लड़की जिससे उसकी शादी होने वाली थी उसको सच पता चल गया और उसने हमें खबर देंदी पर उस बिचारी का पूरा परिवार इसमें मारा गया।

पहला solider:- वो family हमारे किस आर्मी की थी और वो लड़की अब कहा है।

दूसरा solider:- ये सारी information तो confidential है। ना तो उस family के बारे में अब तक कोई नहीं जानता और वो लड़की कहां है ये भी किसी को नहीं पता क्योकि उसकी जान को खतरा हो सकता है। इसलिए ये सब छुपा लिया गया है। यहां तक कि वो business man कौन है ये भी किसी को नहीं पता।

ये घटना भी 3 साल पहले की ही है जब कबीर sir का ये mission start हुआ था। इसलिए उन्हें भी उस family के बारे में कोई idea नहीं है क्योंकि वो उस वक़्त अपने mission में busy थे और उन्होंने ही उस आतंकी संगठन के बाकी के सारे head को मार दिया है। अब उस business man की बारी है।

पहला solider:- हम्म बहुत बुरा हुआ उस लड़की के साथ और उस business man को तो और बुरी मौत मिलनी चाहिए हमारे देश मे रह कर हमसे ही गद्दारी करता है।

इतना बोल वो दोनो solider चुप चाप वही खड़े हो गए। जैसे उनके बीच कोई बात हो ही नहीं रही हो ।।

वही दूसरी तरफ room में वो officer एक आदमी के पास खड़ा था वो आदमी बाहर खिड़की से रेगिस्तान को बड़ी गोर से देख रहा था।

वो officer एक दम सीधा खड़ा हो कर salute करते हुए बोला “जय हिंद कबीर sir”

ये आवाज सुनकर वो आदमी उसकी तरफ घुमा । उसका चेहरा एक दम सख्त था एक दम पत्थर की तरह। वो उम्र में सिर्फ 27 साल का था। लेकिन छोटी सी उम्र में ही general बन गया था। दिखने में एक दम smart लेकिन उसे देख कर ऐसा लग रहा था जैसे कई सालों से वो मुस्कुराया ही नहीं था। सब उसके गुस्से से वाकिफ थे लेकिन उसके गुस्से का कारण आज तक किसी को समझ नहीं आया था

कबीर घुमा और बोला “आप पूरे 10 minute late है।”

वो officer एक सपाट आवाज में बोला “sorry sir लेकिन उसका एक reason था मेरी गाड़ी खराब हो गई थी sirl”

कबीर गंभीर आवाज में बोला ” ok आज मेरी team आने वाली थी कहा है वो don’t tell me की वो भी late है। “

officer :- नहीं sir वो आ गए है और अभी बाहर ही है ये चार लोग specially इस mission के लिए ही बुलाए गए है ये चारों army के best soldier है।

उनकी बात पर कबीर ने कोई react नहीं करा बस हां में अपना सिर हिला दिया। और उन्हें बुलाने का इशारा किया।

उसका इसारा समझ उस officer ने वहीं खड़े एक soldier को इसारा किआ और उन्हें बुलाने के लिए कहा।

थोड़ी देर में चार लोग उनके सामने खड़े थे जिनमें से दो लड़कियां और दो लड़के थे। वो चारो काफी young

और energetic लग रहे थे।

उस officer ने चारों का introduction करते हुए बोला “sir ये army officer दर्शन सिंह ये आदित्य राठौड़, ये आलिया अख्तर और ये है रोशनी रावत one of the best officert”

सबने एक साथ उन्हें salute किआ और एक दम सिधे खड़े हो गए। इतना बोल वो officer उनकी और information उन्हें देता रहा लेकिन कबीर की नज़र तो रोशनी पर आ कर रुक गई थीं।

उसने उसे तीन साल बाद देखा था। उसे तो यकीन नहीं हो रहा था कि वो लड़की उसके सामने खड़ी है। वो

चुलबुली सी लड़की हमेसा जिसके चेहरे पर एक हंसी रहती थी जिसकी आंखों में सपने थे। वो लापरवाह

अल्हड़ सी लड़की जिसकी नादानियों पर हमेसा उसे बहुत गुस्सा आता था। जिसकी बाते हमेसा उसके सिर का दर्द बढ़ा देती थी वो उसके सामने खड़ी है। लेकिन वो चेहरे की चमक गायब सी थी। एक बेजान जिस्म और पत्थर सी आंखे लिए वो बस उसे देख रही

थी इस तरह जैसे कभी उसे जानती ही ना हो।

उसे वहां देख वो सोच में पड़ गया कि ये यहां कैसे वो ऐसे ही अपनी सोच में ही गुम था। तभी उस officer की आवाज से उसे होश आया और वो फिर एक बार उसी रूप में आया और बोला “आप सबको तो मालूम होगा की आज से ठीक एक महीने बाद हमारा mission start होने वाला है। “

सब एक साथ एक आवाज में बोले “yes sir”

कबीर:- आप सबको 1 month की special traning लेनी होगी उसके बाद आपके phones ले लिए जाएंगे और आप पूरी दुनिया से cut हो जाएंगे जब तक आपका mission पूरा नहीं हो जाता तो आपने अपनो से और चाहने वालो से इस एक महीने में बात कर लीजिए फिर शायद मौका ना मिले will you get thatı”

एक बार फिर उन्होंने एक साथ कहा “yes sirl”

कबीर:- ok then कल इस mission की details discuss की जाएगी you can leave nowl उसकी बात सुन वो उन चारों ने एक बार फिर salute किआ और चारो घूम के जाने ही वाले थे। तभी उस serious माहौल में ऐसा कुछ हुआ जिसकी उम्मीद किसी नहीं करी थी । अचानक ही उन चारों में से किसी के phone की ringtone बजने लगी।

झटका जरा सा महसूस हुआ एक, life की गाड़ी ने कस के मारा break, हो रहा है क्यों confuse मेरे दिल,

मशवरा मेरा तू आजमा के देख,

यही उम्र है करले गलती से mistake…

ये song सुन कबीर ने जट से रोशनी की तरफ देखा जो तिरछी नज़र से देख रही थी। आखिर ये वही गाना था जब उसने उसे पहेली बार बेफिक्री से नाचते देखा था।

रोशनी ने जल्दी ही उसने अपनी नजरें उससे हटा ली और आलिया को घूरने लगी। आदित्य भी उसे गुस्से में घूर रहा था पर उन सब से अलग दर्शन तो अपना सिर झुकाए बड़ी मुश्किल से अपनी हंसी control करने की कोशिश कर रहा था।

आलिया ने जल्दी से अपना phone निकाला और कांपते हाथों से उसे पकड़ा पर call कट हो आलिया ने जैसे ही चैन की सांस ली कि उसका phone फिर बजने लगा।

इस बार तो आलिया का phone डर के मारे उसने उछाल ही दिया लेकिन उसने जल्दी से खुद को संभाला और जल्दी से phone cut किआ और phone off करके वपास pocket में रख दिया और उसने कब से माफी मांगी।

वो चारो जल्दी में वहां से निकलने ही वाले थे कि एक आवाज से उनके कदम वही रुक गए और हैरानी से उन्होंने पीछे देखा।

कबीर:- miss आलिया आपकी song की choice कमाल की है।

हालांकि कबीर बोल आलिया को रहा था लेकिन उसकी नजरे रोशनी पर थी। आलिया ने उसे thank you बोला औरवो चारो जट से बाहर निकले।

आलिया ने बाहर निकलते ही चैन की सांस लेते हुए कहा “या अल्लाह आज तो हम बच गए नहीं तो आज तो सियापा ही हो जाना था। ये तो किस्मत अच्छी थी वार्ना mission का पहला दिन ही आखरी दिन बन जाना था। “

उसकी बात सुन रोशनी उसके सिर पर मरते हुए बोली “इतनी careless कैसे हो सकती है तू इतनी important meeting में तू phone ले आई और लाई तो लाई silent पर भी नहीं रखा। “

आलिया:- sorry ना अम्मी का phone था यार

आदित्य जो इतनी देर से सब सुन रहा था गुस्से में बोला “जो भी हो तुम बहुत careless हो आलिया पता नहीं कैसे तुम इस mission के लिए select हो गई।”

उसकी बात सुन आलिया बुरा मानने की जगह रुमानियत से बोली “हाए तुम ही संभाल लो हमे यार खुदा कसम कोई खता नहीं होगी हमसे।”

ये सुनते ही आदित्य का पारा चढ़ गया लेकिन वो बोला कुछ नहीं बस गुस्से में घूरते हुए वहां से चला गया। आलिया बस मुस्कुराते हुए उसे जाते देख रही थी।

वो तीनो भी साथ चलने लगे रोशनी तो चुप चाप चल रही थी लेकिन दर्शन से चुप नहीं रहा गया वो आलिया के गले में हाथ डालते हुए बोला ” वो तुझे घास भी नहीं डालता तो क्यों अब भी पीछे पड़ी है उसके यार छोड़ कोई दूसरा ढूंढ ले।”

आलिया उसका हाथ हटाते हुए बोली ” तुझे क्यों जलन हो रही है। अरे ये इश्क़ है वो भी सच्चा वाला इतनी जल्दी हार थोड़ी मानूंगी आखरी वक़्त तक कोशिश करूंगी।”

उसकी ये बात सुन रोशनी एक दम से रुक गई अतीत की कुछ यादे उसकी आँखों में तैर गई। उसका ध्यान जब टूटा जब दर्शन ने उसे आवाज दी वो जल्दी से होश में आई खुद को संभाला और चारो के साथ वहां से निकल गई।

वही पीछे खड़ा कबीर जो उन चारों की बाते सुन रहा था वो रोशनी को वहां से जाते देख बोला “I am sorry रोशनी जो तुम्हे मैंने तुम्हें जाने दिया पर तुम यहां कैसे तुम्हारे सपने तो अलग थे जो भी हो पर इस बार तुम्हे जाने नहीं दूंगा।” इतना बोल कबीर भी वहां से निकल गया।

क्रमशः

Garima Agarwal

 Read Also: School Crush Love Story

Leave a comment